समाचार
|| रोको-टोको अभियान : 282 व्यक्तियों पर 45 हजार 610 रुपए का जुर्माना || आज की नॉवल कोरोना वायरस हेल्थ बुलेटिन || नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने की मकरोनिया नगर पालिका के कार्यों की समीक्षा || प्रवासी एवं अन्य  मजदूरों को कार्य की मांग हेतु जारी किये गए || सतर्कता एवं मॉनीटरिंग समिति की बैठक सम्पन्न || मध्यप्रदेश में फिर से लागू होगी भामाशाह योजना : मुख्यमंत्री श्री चौहान || बायो मेडिकल वेस्ट का सुरक्षित निपटारा आवष्यक-कलेक्टर श्री सिंह || ग्राम पंचायतों में मनरेगा के कार्य न होने पर रोकी जायेगी रोजगार सहायकों की वेतन || आज 13 पॉजिटिव मरीज मिले || विधिक सहायता प्रदान करने के लिये आय की पात्रता 2 लाख रूपये वार्षिक करने की सहमति प्रदाय
अन्य ख़बरें
इस नवरात्रि नए रूप में निखरेगा अमका झमका मंदिर परिसर
कलेक्टर ने निरीक्षण कर प्रसन्न मन से कहा बहुत अच्छा काम चल रहा है
धार | 24-जून-2020
 
 
     भगवान कृष्ण द्वारा रुक्मिणी का हरण करने वाला स्थल धार जिले का अमझेरा स्थित अमका झमका परिसर है । बारिश के दिनों में हरियाली से आच्छादित यह मंदिर परिसर एक अनोखे रूप में होता है, लेकिन गर्मी के दिनों में यहां सब कुछ वीरान नजर आने लगता है। इस बार जिला प्रशासन के सहयोग से जिला पंचायत ने पूरे मंदिर परिसर को एक नया रूप देने का प्रयास किया है, जिससे आने वाली नवरात्रि में यहां की छटा कुछ अलग ही रहेगी। बुधवार को कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने अमका झमका मंदिर परिसर का निरीक्षण किया और यहां की महत्ता को समझा। जल और पर्यावरण संरक्षण के लिए किए जा रहे काम को देखकर कलेक्टर प्रसन्न नजर आए और उन्होंने कहा, सब कुछ ठीक चल रहा है। कलेक्टर के साथ जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संतोष वर्मा की मौजूद थे।
यह है परंपरा
    प्राचीन रुक्मिणी हरण स्थल मां अमका झमका तीर्थ पर वर्षों से चली आ रही परिपाटी वाली परंपरा का निर्वहन जारी है। हर वर्ष यहां अमझेरा के विभिन्न पंडित परिवार के समाजजन अपनी सेवा में मंदिर की चाबी एक दूसरे को सौंपते हैं। यह कार्य हर शारदीय नवरात्रि के एक दिन पूर्व अमावस्या को किया जाता है। पुजारी आने वाले पंडित को विधिवत चाबी सौंपता है। जिस पंडित का सेवा का वर्ष रहता है वह अमावस्या की रात विधिवत माताजी के पट खोलता है। इसी परंपरा में शनिचर अमावस्या की रात में वर्तमान पंडित पर्व ने अभिजीत पंडित को चाबी सौंपता है, जो रात में 12 बजे मंदिर के पट खोलते हैं। यह अनूठी परंपरा वर्षों से चली आ रही है। इसमें एक बड़ी बात यह भी देखने में मिली है कि यदि पंडित परिवार अमझेरा छोड़कर कहीं बाहर बसते हैं तो उनके परिजन सेवा देते है। यानी एक परिवार के सभी भाई मिलकर सेवा देते है। यहां अष्टमी को माता अंबिका, नवमी को माता चामुंडा व झमका माता का विशेष यज्ञ होकर पूर्णाहुति दी जाती है. नवदुर्गा में विशेष अनुष्ठान पाठ किए जाते है।
पंवार वंश की कुलदेवी है
    रतलाम, झाबुआ, मुंबई, भोपाल आदि शहरों व प्रांतों से अष्टमी व नवमी को कुलदेवी पूजने बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते है. माता चामुंडा पंवार वंश की कुलदेवी है। इसलिए महाराष्ट्र के बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां दोनों नवरात्रि में यहां आते है।
Fact  फाइल-
1. चेक डेम -7
2. नाला ट्रेंचिंग-2
3. दो और तीन स्टेप की पक्की बोल्डर वाल
4. पिचिंग वर्क
5. मानव दिवस-400
6.अमका झमका मंदिर परिसर में राजराजेश्वर मंदिर के पास 250 पौधे चुके हैं वही पूरे परिसर में 625 पौधे लगाने की तैयारी की जा चुकी है।
(43 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer