समाचार
|| श्री सुरेश पत्रकारिता विश्वविद्यालय को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे || स्वास्थ्य मंत्री ने रायसेन में एक करोड़ 33 लाख रूपए लागत के ऑडिटोरियम हॉल का किया भूमिपूजन || सफलता के कीर्तिमान स्थापित करता मध्यप्रदेश का किसान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सांसद श्री गणेश सिंह के अनुज के निधन पर दु:ख व्यक्त किया || मेडिकल कॉलेज के स्वशासी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए भी शासकीय कर्मचारियों के समान मेडिकल रीइंबर्समेंट की योजना लागू || विकास के अवसर बराबरी से पाना आदिवासी भाई-बहनों का अधिकार - मुख्यमंत्री श्री चौहान || कृषि एवं सहकारिता के बल पर प्रदेश आत्मनिर्भर बनेगा : सहकारिता मंत्री || सीहोर में उद्योगों की स्थापना के लिए समन्वित प्रयास जरूरी - मंत्री श्री सखलेचा || स्वच्छ एवं स्वतंत्र निर्वाचन हेतु बार्डर में होगी वाहनो की सघन जॉच || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 225 व्यक्ति डिस्चार्ज
अन्य ख़बरें
सिंचाई और पेयजल के लिए महत्वपूर्ण है केन बेतवा लिंक परियोजना - मुख्यमंत्री श्री चौहान
प्रदेश की 6 लाख 53 हजार हेक्टेयर कृषि भूमि में होगी बेहतर सिंचाई, परियोजना की शीघ्र पूर्णता के लिए प्रधानमंत्री से भेंट करेंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान
नरसिंहपुर | 23-जुलाई-2020
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि केन बेतवा लिंक राष्ट्रीय परियोजना प्रदेश के पिछड़े और सूखाग्रस्त क्षेत्रों को सिंचित करने और पेयजल उपलब्ध कराने की दृष्टि से महत्वाकांक्षी योजना है। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नदी जोड़ो अभियान के अनुक्रम में विकसित की गई इस परियोजना से मध्यप्रदेश में 6 लाख 53 हजार हेक्टेयर कृषि क्षेत्र में बेहतर सिंचाई संभव होगी। श्री चौहान ने कहा कि परियोजना की शीघ्र पूर्णता के लिये वे जल्द ही प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी तथा उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री से भेंट करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केन-बेतवा लिंक परियोजना को लेकर उनकी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ से आज दूरभाष पर चर्चा हुई है। उत्तर प्रदेश के जल संसाधन मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह शीघ्र मध्य प्रदेश आएंगे तथा यहां के जल संसाधन मंत्री से चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री केन बेतवा लिंक राष्ट्रीय परियोजना की बैठक को संबोधित कर रहे थे। जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा बैठक में सम्मिलित हुए। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस तथा संबंधित अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।
         बैठक में जानकारी दी गई कि परियोजना के संबंध में अगस्त 2005 में एम.ओ.यू. हुआ था। इसके तहत 90 प्रतिशत राशि केन्द्र सरकार व्यय करेगी। राज्य सरकार का हिस्सा 10 प्रतिशत रहेगा। केन बेसिन में 4.47 लाख हेक्टेयर मध्यप्रदेश का तथा 2.27 लाख हेक्टेयर उत्तरप्रदेश का कृषि योग्य सिंचित क्षेत्र लाभन्वित होगा। बेतवा बेसिन से मध्यप्रदेश के 2 लाख 6 हजार हेक्टेयर क्षेत्र को लाभ मिलेगा। परियोजना से उत्पन्न होने वाली बिजली का संपूर्ण उपयोग मध्यप्रदेश द्वारा किया जाएगा। परियोजना की कुल लागत 35 हजार 111 करोड़ रूपये आंकलित की गई है। एम.ओ.यू. द्वारा उत्तरप्रदेश को केन कछार से 1700 मिलियन घन मीटर पानी आवंटित किया गया है जिस पर दोनों राज्यों की सहमति थी। इसमें रबी सीजन के लिए 547 मिलियन घन मीटर तथा खरीफ सीजन में 1153 मिलियन घन मीटर जल का आवंटन होना था, परंतु उत्तर प्रदेश द्वारा बाद में पानी की मांग बढ़ा दी गई।
         भारत सरकार द्वारा परियोजना के सीजनल जल आवंटन के लिए अप्रैल 2018 में आयोजित बैठक में मध्यप्रदेश द्वारा रबी सीजन में सिंचाई एवं पीने के पानी के लिए बांध से 547 मिलियन घन मीटर के स्थान पर 700 मिलियन घन मीटर पानी उत्तर प्रदेश को आवंटित करने पर सहमति दी गई। लेकिन केंद्र द्वारा उत्तरप्रदेश को 788 मिलियन घन मीटर पानी आवंटित किया गया। उत्तरप्रदेश द्वारा जुलाई 2019 में पुन: मांग बढ़ा कर 930 मिलियन घन मीटर आवंटन का अनुरोध किया गया है। भारत सरकार द्वारा नवंबर से मई तक की जल आवश्यकता की तर्कसंगता जांचने का दायित्व राष्ट्रीय जल विकास अभिकरण को सौंपा गया है।
         मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट को उत्तरप्रदेश के जल संसाधन मंत्री से बातचीत कर परियोजना की शीघ्र पूर्णता के लिए आवश्यक कार्यवाही करने के लिए कहा है।
 
(60 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer