समाचार
|| रविवार को एक दिन का लॉक डाउन रहेगा, शनिवार को मार्केट खुलेंगे || एसओपी का पालन नहीं करने पर दस दुकानें सील की गई || ग्राम बाजा में मिला कोरोना संक्रमित मरीज || आज की नॉवल कोरोना वायरस हेल्थ बुलेटिन || आज 10 पॉजिटिव केस सामने आए || बटियागढ कोविड केयर सेंटर से 04 योद्धाओं की हुई छुट्टी || नगरपालिका क्षेत्रांतर्गत कर्नेलगंज गुना में संपूर्णं लॉकडाउन समाप्‍त || कलेक्ट्रेट परिसर मंदिर यथावत रहेगा- कलेक्टर श्री सिंह || आदिवासियों से मारपीट-दुर्व्‍यवहार को गंभीरता से लिया जाएगा - कलेक्‍टर || जैसे हम बच्चे अपना चेकअप करवाने आ सकते हैं, आप बड़े लोग भी आइए, यहां इलाज करवाइए, इस बीमारी को हम लोग मिलकर हरायेगें
अन्य ख़बरें
मैने साक्षात देखे हैं, सफेद लिबास में देवदूत (कहानी सच्ची है)
-
जबलपुर | 28-जुलाई-2020
      कोरोना संक्रमित होने के बाद से लेकर इलाज कराने और फिर कोरोना की जंग जीतकर समाज की मुख्यधारा से जुडऩे तक के दृश्य को अक्षरश: चित्रित करता कोरोना योद्धा युवा पत्रकार अभिषेक सोनी के उद्गार..... जो कोरोना के प्रति व्याप्त धारणा और इलाज के दौरान की जीवंत गाथा है। साथ ही उपचार के दौरान चिकित्सकों और स्टॉफ के सहयोगात्मक, सद्व्यवहार की नजीर बन गई और कोरोना संक्रमितों के मन में जल्द स्वस्थ्य होने का जज्बा, हौसला और साहस बढ़ाने की दास्तां है।
    ईश्वर को किसी ने देखा नहीं, प्रतिमाओं की भाव से पूजा-ध्यान करके ही मैने बचपन से युवा अवस्था तक, जो मांगा, मिला...। पत्रकारिता की पावन विधा में कर्मपथ पर चलते हुए 10 जुलाई को अचानक जीवन में मानो तूफान सा आ गया, रात को खबर आई कि मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव है...सब थम गया, भविष्य के सारे सपने आंखों के सामने तैर गए, मां-बाबूजी कुछ कहने की स्थिति में ही नहीं थे, अलग कमरे में मैने सारी रात गुजार दी, उस रात मैं सोया नहीं...चिंता के महासागर में उठती लहरों ने मुझे  हिलाकर रख दिया...।
        अगले दिन सुबह 11.30 बजे प्रशासन की ओर से एम्बुलेंस घर के सामने आकर खड़ी हो गई, परिवार के लोगों ने मेरा बैग लगाया, उसमें जरूरी सामान था ...मां-बाबू जी की आंखें नम थीं, वे हौसला बढ़ाने में भी समर्थ नहीं दिख रहे थे, मेरा मन भी आशंकाओं और इस महामारी के दानव से जीतने के लिए खुद को सक्षम नहीं पा रहा था..लेकिन जिस ईश्वर को कभी देखा नहीं, उसने शायद मुझे शक्ति दी, घर से सभी ने हौसला देकर विदा किया।
        मेडिकल अस्पताल पहुंचा, यहां गेट पर ही सेनिटाइजेशन की गहन प्रक्रिया के बाद मुझे वार्ड में बिस्तर दिया गया, पास में एक दराज में सारा सामान जमा करके बुखार से कांपता शरीर, बिस्तर पर गिर गया..आंखों में आंसू थे, भय का अंधेरा घेरने लगा, जिससे मैं खुद को निकाल ही नहीं पा रहा था...तभी सफेद लिबास (पीपीई किट) में मेरे बिस्तर के पास नर्स और डॉक्टर आए...मेरा हौसला बढ़ाया, जरूरी टेस्ट किए, सिर पर हाथ फेरकर कहा..सब ठीक होगा, उनके इतना कह देने से भी मुझे फर्क नहीं पड़ा, क्योंकि सरकारी अस्पतालों की कथित व्यवस्थाओं का जो चित्र मेरे मन-मस्तिष्क पर था, उससे में घबराया हुआ था।
        दोपहर तक मेरी मेडिकल हिस्ट्री तैयार थी, दवाएं मेरे सिराहने रखी जा चुकी थीं, नर्स ने मुझे बहुत ही स्नेहपूर्ण भाव से हौसला बढ़ाते हुए दवा दी, कुछ देर बाद वार्ड के दूसरे स्टाफ  ने भी मुझसे बात की। शाम होते-होते तक बुखार में कुछ कमी थी, भरोसे की दलदली जमीन कुछ ठोस हुई...सफेद लिबास में अपनी जान को दांव पर लगाए वार्ड में नर्स-चिकित्सक, सफाई कर्मी, वार्डव्बॉय, ऐसे लग रहे थे, जैसे देवदूत हों...।    
        शहर में रहते हुए भी मैं परिवार से शारीरिक रूप से दूर था, यह दूरी मुझे कई समंदर पार जैसी लगती थी, लेकिन अस्पताल के स्टाफ और वार्ड के मरीजों से मेलजोल ने मुझे नई शक्ति दी, वार्ड में कोरोना की जंग जीतकर स्वस्थ्य हुए ओम सेन, निवासी गढ़ा फाटक और विशाल विश्वकर्मा, मिले। उनका मरीजों के प्रति सेवाभाव देखकर मैं भी तीसरे दिन से उनके साथ हो गया, वार्ड के सभी मरीजों से बातचीत, चिकित्सकों विशेषकर डॉ. संदीप सिंह के सहयोगात्मक व्यवहार और नर्सों का स्नेहिल भाव, सफाई कर्मियों का अनुशासन और अपनापन देखकर मुझे ठीक होने की आस बंध गई। ओम और विशाल सभी मरीजों के खाने-पीने का पूरा ध्यान देते थे, वे किसी को भूखा नहीं सोने देते, जो अंदर से टूट रहे थे, उन्हें सकारात्मक ऊर्जा देते थे।
        आखिर वो दिन भी आ गया, जिसकी मुझे उम्मीद क्षीण थी, 21 जुलाई को मेरी मेडिकल से छुट्टी हो रही थी, वार्ड के सभी स्टाफ ने सुबह से मुझसे मुलाकात की, मेरे पास उनके आभार जताने के लिए शब्द नहीं थे...पत्रकार होते हुए भी मैं कोई शैली नहीं ढूंढ पा रहा था, जिससे उनकी सेवा के बदले में उन्हें धन्यवाद कर सकूं...शायद यही ईश्वर के प्रति हमारे भाव में होता है, हम जब ईश्वर के समक्ष खडे होते हैं, तो भाव ही होते हैं, शब्द शून्य हो जाते हैं...यही मेरे साथ हुआ।
        अस्पताल से रवाना हुआ, घर के सामने एम्बुलेंस खड़ी हुई, गेट पर मां-बाबू जी, परिवार के सदस्यों की आखें भरीं थीं, लेकिन इस बार उन्हें गर्व था, मुझ पर, मेरे हौसले पर...आंगन में नहा-धोकर मैने घर में प्रवेश किया, सभी के पैर छूकर आशीर्वाद लिया, जीवन की जिस जंग से लौटकर मैं आया, उसके पीछे मेरे तमाम स्नेही, शुभेच्छु, परिजनों की दुआएं थीं, लेकिन मैं अस्पताल में जिन देवदूतों के बीच अपनी जिदंगी की इस लड़ाई का परचम फहराकर लौटा हूं, उन्हें आखिरी सांस तक नहीं भूलूंगा...। मैने उनका चेहरा नहीं देखा, लेकिन मैने कभी ईश्वर को भी तो नहीं देखा...उसकी शक्ति का साक्षात्कार किया है मैने....

सभी को भावूपर्ण नमन-वंदन। डर का दरिया पार कर.. कोरोना पर वार कर।
देवदूत बैठे हैं अस्पताल में... चिंता ना कर, बस अपने हौसले को पाषाण कर।

मनोज कुमार श्रीवास्तव
संभागीय जनसम्‍पर्क
कार्यालय, जबलपुर
 
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2020सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer