समाचार
|| कार्यपालिक दण्डाधिकारी की ड्यूटी संबंधी आदेश || राज्यसभा सांसद श्री सिंधिया का दौरा कार्यक्रम || मुख्यमंत्री श्री चौहान का दौरा कार्यक्रम || ल्यूपिन कंपनी द्वारा जिला चिकित्सालय को प्रदान की गई नीयो नेटल रेस्प्रेटर मशीन || अंत्योदय रसोई में जरूरतमंदों को मिले गुणवत्तापूर्ण और पौष्टिक भोजन- कलेक्टर || कलेक्टर ने ग्रामीण स्ट्रीट वेण्डर्स को ऋण स्वीकृति पत्र किए वितरित || हाई परफारमेंस लीडरशिप प्रोग्राम आपकी आंतरिक शक्ति और आत्मविश्वास को बढ़ावा देगा - श्रीमती सिंधिया || आई.टी.आई. में पुन: रजिस्ट्रेशन के लिए 30 सितम्बर तक तिथि बढ़ी || उद्योगों के लिए अनडेवलप जमीन भी दी जायेगी : मंत्री श्री सखलेचा || चीन के विश्वव्यापी विरोध के चलते प्रदेश के उद्यमियों के लिए बेहतर अवसर : मंत्री श्री सखलेचा
अन्य ख़बरें
सीएम हेल्पलाइन में जितनी लंबित शिकायतें होंगी, उतने दिन का वेतन आगे से कटेगा - कलेक्टर श्रीमती दास
-
मुरैना | 06-अगस्त-2020
    समस्त कार्यालय प्रमुख सुन लें। जितनी सीएम हेल्पलाइन लंबित रहेंगी, उतने दिन का संबंधित अधिकारी का वेतन काटा जायेगा। यह निर्देश कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने सीएम हेल्पलाइन की लंबित शिकायतों की समीक्षा करते हुये जिलाधिकारियों को दिये। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री एसके मिश्रा, आयुक्त नगर निगम श्री अमरसत्य गुप्ता, एसडीएम, समस्त जिलाधिकारी, सीएमओ एवं समस्त जनपद सीईओ उपस्थित थे।
    कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने कहा कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की शिकायतें 178 लंबित है। जिनमें से कुछ शिकायतें ऐसी है, जिनका निराकरण तो हो चुका है, किन्तु क्लोज करने का पत्रक कलेक्टर कार्यालय नहीं भिजवा पायें है। ऐसी शिकायतों को सीएमओ दो दिवस के अंदर फोर्सली क्लोज करवा दें। दो दिवस के अंदर शेष 27 शिकायतों का फोर्सली क्लोज प्रपत्र के माध्यम से नहीं कराया तो 27 दिवस का वेतन काटने की कार्रवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि अब कोरोना बहुत हो चुका, अब कोरोना की आड़ में एक भी समस्या सीएमएचओ की नहीं सुनी जायेगी। हमकों सीएम हेल्पलाइन में अच्छे परिणाम चाहिये। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना के तहत प्रसूती सहायता की 57 शिकायतें, आशा कार्यकर्ताओं की 62, अनुकंपा नियुक्ति की विभागीय 42 शिकायतें लंबित है, जबकि स्वास्थ्य विभाग में हर कार्य के लिये आशा कार्यकर्ताओं को सबसे पहले काम सौंपा जाता है। उनकी ही शिकायतों का निराकरण न करना गंभीर बात है। उन्होंने कहा कि पैमेंट, स्कीम, रिलेटिड कोई भी शिकायत लंबित नहीं होनी चाहिये। विशेषकर स्वास्थ्य विभाग में पैसे की कमी नहीं है। इस कार्य को अधिकारी प्राथमिकता दें। इस अवसर पर उन्होंने आयुक्त नगर निगम, सीएमओ, जनपद सीईओ सहित अन्य विभागों की लंबित शिकायतों की समस्याओं को सुना और उनका समय पर निराकरण करने के निर्देश दिये।
 
(49 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer