समाचार
|| आयुष्मान योजना के कार्डधारी कोरोना मरीजों के लिये 20 फीसदी बेड आरक्षित रखें || आई.टी.आई. में पुन: रजिस्ट्रेशन के लिए 30 सितम्बर तक तिथि बढ़ी || स्व-सहायता समूह का अनुबंध निरस्त एवं 1.62 लाख की वसूली || सरकार ने गरीबों के कल्याण के लिये क्रांतिकारी योजनायें बनाईं – श्री कुशवाह || स्वास्थ्य अमले द्वारा लिए जा रहे घर-घर जाकर कोरोना सैंपल || 3 हजार से अधिक शिकायतों का मौके पर निराकरण || कंटेनमेंट क्षेत्र की गलियों से डोर-टू-डोर एकत्रित किया जा रहा कचरा || कंटेनमेंट क्षेत्रों में किया गया सैनिटाईजेशन || अंत्योदय से होगा आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार - मंत्री श्री राजवर्धन सिंह दत्तीगाँव || निगम के हांका दल द्वारा आवारा पशुओं को पकड़ने का कार्य निरंतर जारी
अन्य ख़बरें
जहाँ चाह वहाँ राह, निजी छात्रावास की व्यवस्था को मात देता सुसज्जित व व्यवस्थित शासकीय छात्रावास (सफलता की कहानी)
-
सागर | 14-अगस्त-2020
      कहते है यदि ‘‘इरादे नेक और हौसला बुलन्द हो तो कुछ भी संभव है‘‘। इस कथन को संभव कर दिखाया है। पुलिस लाईन मे संचालित शासकीय छात्रावास के अधीक्षक व शिक्षक मोहम्मद आबिद खान ने, 26 जनवरी 2018 को अनाथ, बेघर, प्रताडि़त एवं घुमक्कड जाति के बच्चों को नि:शुल्क आवास व्यवस्था के साथ बेहतर शिक्षा के उद्देश्य से जिला शिक्षा केन्द्र सागर द्वारा जर्जर भवन और उबड़-खाबड़ मैदान के बीच 11 बच्चों के साथ शुरु हुए छात्रावास का सूरते-ऐ-हाल आज कुछ अलग ही नजर आता है। पुलिस लाईन के आवासीय क्वाटर्स के बीच से कच्चे रास्ते से होते हुए आगे बढ़ने पर विश्वविद्यालय की सुरम्य वादियो के बीच स्थित छात्रावास देखकर ऐसा प्रतीक होता है मानो किसी हिल स्टेशन के बोर्डिग स्कूल मे खड़े हो। कटीले तारो से कवर्ड बाउन्ड्री के अंदर स्थित छात्रावास परिसर मे गेट से लगकर बायी ओर अधीक्षक कार्यालय व चौकीदार कक्ष दाहिनी ओर छोटा सा बगीचा और मैदान के बीच माँ सरस्वती जी का मंदिर परिसर को और भी रमणीय बनाता है,छात्रावास मे रह रहे प्रत्येक बच्चों के लिए अलग अलग पलंग और उनके सामान रखने के लिए उनके नाम व पता लिखी पेटी,साफ सुधरा रसोईघर के साथ आवासीय परिसर से सटकर स्वच्छता के संदेश के साथ आकर्षक बॉलपेन्टिग बने टायलेट और स्नानघर जिसमें गर्म पानी से नहाने के लिए गीजर और कपड़े धोने के लिए वाशिंग मशीन उपलब्ध है सुरक्षा के लिहाज से परिसर मे चारो को सीसीवी कैमरे लगाए हुए है। जिससे अधीक्षक द्वारा छात्रावास की गतिविधियों नजर रखी जाती है।
     छात्रावास अधीक्षक मोहम्मद आबिद खान सीमित संसाधन से छात्रावास मे संचालित अच्छी व्यवस्था का श्रेय सागर जिले के डीपीसी श्री एचपी कुर्मी को देते है वे कहते है ये सब व्यवस्था डीपीसी कुर्मी की व्यक्तिगत रूचि और प्रयासों से ही संभव हो पायी, जब मेरी अधीक्षक के रूप मे यहाँ पदस्थापना हुयी थी तब उन्होंने मुझे बच्चों की संख्या बढ़ाने और परिसर मे अच्छी व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे। मैने उनके मार्गदर्शन मे जिले के सभी विकासखंडो के बीआरसी,जनशिक्षको के साथ बैठक आयोजित कर अनाथ,निराश्रित,बेघर पन्नी बीनने वाले,भिक्षा मांगने वाले और घुमक्कड जाति के बच्चों को चिहित करने को कहाँ मैने उन चिन्हित बच्चों से गांव गांव जाकर संपर्क कर उन्हें समझाईस दी। आज उसी का प्रतिफल है कि 11 बच्चो से शुरु हुए इस छात्रावास मे 92 बच्चे दर्ज है,परिसर मे पानी की कमी को देखते हुए कुर्मी जी द्वारा बोरिंग कराई गई मैने छात्रावास के जर्जर भवन की मरम्मत कराकर उसे रिनोवेट कराया साथ ही सर्वशिक्षा मद से अधीक्षक कक्ष और शौचालय का निर्माण कराया,परिसर का समलीकरण कर छोटा सा बगीचा और चारो ओर कटीले तारो की बाऊन्ड्री के साथ विभिन्न प्रकार के पौधौ का रोपण किया।                        
 
(41 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2020अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
2829301234
567891011

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer