समाचार
|| मांधाता विधानसभा के उप निर्वाचन हेतु मतदान दलों का तृतीय रेण्डमाइजेशन सम्पन्न || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 56 व्यक्ति डिस्चार्ज || माइक्रो आब्जर्वर के लिए श्री जाधव नोडल अधिकारी नियुक्त || कलेक्टर श्री शर्मा ने राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलाई || कोरोना जांच हेतु शनिवार कुल 85 नए सेम्पल भेजे गए || कलेक्ट्रेट में अधिकारी कर्मचारियों को दिलाई राष्ट्रीय एकता की शपथ || मांधाता क्षेत्र में 3 नवम्बर को मतदान के लिए सार्वजनिक अवकाश घोषित || निवासी भूमि के वनाधिकार पट्टे के हक प्रमाण पत्र की सौगात से बीजेपानी की श्रीमती कुसुमवती की बहुत पुरानी इच्छा हुई पूरी "खुशियों की दास्तां" || राष्ट्रीय एकता दिवस पर एकता रैली संपन्न || ऑनलाईन स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत में 14 प्रकरणों का निराकरण निराकृत प्रकरणों में 56 लाख 37 हजार 684 रूपये के अवार्ड पारित
अन्य ख़बरें
जीवन में बहुत परेशानी देखी, अब लगता है आने वाले दिन सुकून से बितेंगे - बालकदास (खुशियों की दास्तां)
मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना से दूर हुई सबसे बड़ी समस्या
उज्जैन | 18-अक्तूबर-2020
उम्र के जिस पड़ाव पर पहुंचने के बाद जब ज्यादातर लोग अपने घरों में बैठकर आराम करते हैं या अपनी आध्यात्मिक उन्नति में लग जाते हैं, उस पड़ाव में गांव पिपलौदा द्वारकाधीश में रहने वाले 62 वर्षीय बालकदास को पांच महीने पहले मजबूरी में मजदूरी करना पड़ी थी। इसकी मुख्य वजह थी दो वक्त की रोटी जुटा पाना, क्योंकि भूखे पेट तो भगवान के भजन भी कहां होते हैं।
बालकदास के संयुक्त परिवार में 12 लोग रहते हैं। इतने बड़े परिवार में कमाने वाले केवल बालकदास और उनके दो लड़के ही हैं। उनके लड़के शहर में दुकानों पर छोटा-मोटा काम करते थे। पहले उनकी आमदनी में जैसे-तैसे घर चल जाता था, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन के कारण लड़कों का शहर में काम ठप पड़ गया था। कहते हैं कि पेट की भूख व लाचारी जो न कराये वह कम है। बस यही लाचारी बालकदास और उनके परिवार की थी।
जब अनलॉक की प्रक्रिया प्रारम्भ हुई तो बालकदास के लड़कों को आसपास के गांव में छोटा-मोटा काम मिलने लगा था लेकिन उससे इतनी आय नहीं हो पा रही थी कि घर का गुजारा हो सके। इसलिये मजबूरन बालकदास को भी काम के लिये घर से बाहर निकलना पड़ा। बालकदास और उनके दोनों लड़के मजदूरी कर घर का राशन जुटा तो रहे थे, लेकिन बाजार से राशन खरीदना उस समय काफी महंगा पड़ रहा था।
हर सुबह जब बालकदास घर से काम के लिये निकलते थे तो उन्हें यही चिन्ता लगी रहती थी कि जब तक उनका शरीर साथ दे रहा है, तब तक तो ठीक है, लेकिन जिस समय भी वे अस्वस्थ हो गये, तब घर कैसे चलेगा। एक दिन बालकदास को ग्राम पंचायत कार्यालय के माध्यम से मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना के बारे में पता चला। उन्होंने तुरन्त इसके लिये आवेदन दिया और कुछ दिन के बाद शहर में आयोजित कार्यक्रम में बालकदास को पात्रता पर्ची का वितरण कर दिया गया। अब इस योजना के तहत बालकदास के परिवार के प्रति सदस्य को पांच-पांच किलो गेहूं व चावल, एक किलो नमक व डेढ़ किलो केरोसीन उपलब्ध करवाया जा रहा है।
इससे बालकदास और उनके परिवार को काफी राहत मिली है। बालकदास खाद्य विभाग और मध्य प्रदेश शासन को धन्यवाद देते हैं। उन्होंने बताया कि जीवन में अब तक उन्होंने बहुत परेशानी और दु:ख देखे हैं लेकिन अब लगता है कि आने वाले दिन सुकून से बितेंगे, क्योंकि मुख्यमंत्री ने उनके जीवन की मुख्य समस्या को दूर कर दिया है।
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
सितम्बरअक्तूबर 2020नवम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2829301234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930311
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer