समाचार
|| गाडरवारा में फेस मास्क नहीं लगाने पर लगा 8 हजार रूपये से अधिक का जुर्माना || 16 जनवरी तक कोविड- 19 के 85 हजार 613 सेंपल लिए- 80 हजार 796 सेंपल निगेटिव || संयुक्त संचालक लोक शिक्षण ने किया शालाओं का निरीक्षण || रोजगार अवसर मेला का आयोजन गाडरवारा में 18 जनवरी को एवं नरसिंहपुर में 20 जनवरी को || 2150 किलोग्राम महुआ लाहन व 68 लीटर हाथ भट्टी मदिरा बरामद || आईएफएस अधिकारी मोहम्मद माज को दी गई भावभीनी बिदाई || महिला सम्मान के लिये चलाए जा रहे अभियान में समाज सहभागी बने - मुख्यमंत्री श्री चौहान || गाँव-गाँव निकल रही है रैलियाँ और रथ यात्राएँ || ‘‘सम्मान’’ अभियान अन्तर्गत ग्राम दाबड़िया में महिला जागरूकता कार्यक्रम आयोजित || 18 जनवरी से प्रारंभ होगा "सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा" यातायात जन जागरूकता अभियान
अन्य ख़बरें
गृहभेंट और देखरेख से 3257 बच्चे हुये सुपोषित (खुशियों की दास्तान)
-
कटनी | 10-नवम्बर-2020
    कोरोना संक्रमण काल में मार्च 2020 से आंगनबाड़ी केन्द्र बंद रखे जा रहे हैं। लेकिन कटनी जिले में महिला एवं बाल विकास विभाग की सजग आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मेहनत और सतत् निगरानी कमजोर वजन के बच्चों की उचित देखभाल के लिये घर पहुंच संदर्भ सेवाओं के फलस्वरुप अप्रैल से अक्टूबर माह तक 3 हजार 257 बच्चों के वजन में सुधार होकर कुपोषण की श्रेणी से बाहर हुये हैं।
   कलेक्टर शशिभूषण सिंह के निर्देशन में सुपोषण के लिये चलाये जा रहे विविध नवाचारों में पोषण माह सितम्बर 2020 में माह भर पोषण की गतिविधियों का संचालन बच्चों को घर पहुंच सेवा के माध्यम से किया गया। पोषण माह के समापन पर एक ही दिन में पूरे जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों में दर्ज अतिकम वजन के 2187 सभी बच्चों को स्नेह सरोकार के अन्तर्गत अधिकारियों, कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों को पोषण के लिये गोद दिया गया है। पोषण अभियान की गतिविधियों में कटनी जिला प्रदेशभर में अव्वल दर्जे पर रहा है।
   कलेक्टर श्री सिंह के मार्गदर्शन में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा 10 नवम्बर से अतिकम वजन के कुपोषित बच्चों को गृहभेंट का कार्यक्रम नवाचार के रुप में प्रारंभ किया है। गृहभेंट कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी, सहायक संचालक परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक सहित कुल 73 अधिकारियों ने मंगलवार को 73 कुपोषित बच्चों के घर जाकर बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी ली और उपहार स्वरुप दलिया, चना, गुड़, हॉर्लिक्स के बिस्किट, मूंगफली के पैकेट प्रदान किये। अधिकारियों ने कुपोषित बच्चों के अभिभावकों की कौसलिंग कर वजन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कराने की सलाह दी।
   जिला कार्यक्रम अधिकारी नयन सिंह ने बताया कि गृहभेंट कार्यक्रम के तहत प्रत्येक माह के द्वितीय मंगलवार को महिला एवं बाल विकास विभाग के 73 अधिकारी 73 कुपोषित बच्चों के घरों में दस्तक देंगे और उनकी स्वास्थ्य निगरानी करेंगे। इसी तरह 12 माह में 73 बच्चों के मान से 876 बच्चों की निगरानी अधिकारी स्वयं कर सकेंगे। उल्लेखनीय है कि जिले में पोषण गतिविधियों के माध्यम से अप्रैल से अक्टूबर 2020 तक 2439 कम वजन के एवं 818 अतिकम वजन के कुल 3257 कुपोषित बच्चों को कुपोषण की परिधि से बाहर लाया गया है।

 
(68 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer