समाचार
|| सड़क सुरक्षा माह का शुभारंभ आज || मिलावट की रोकथाम के अभियान के तहत उद्योग नगर पालदा रोड़ स्थित प्रतिष्ठान पर कार्यवाही || इंदौर में सार्वजनिक स्थलों को महिलाओं, बालिकाओं एवं बच्चों के लिये सुरक्षित बनाने की दृष्टि से सेफ सिटी कार्यक्रम || शनिवार 16 जनवरी का कोरोना हेल्थ बुलेटिन || अटल सिटी बस के यात्रियों के लिये पास सुविधा पुन: प्रारंभ || कोरोना का पहला टीका लगवाने वाली आशा पंवार हुई भावविभोर " सफलता की कहानी " || अर्थदंड की राशि अभिलंब जमा कर कार्यवाही से बचें- तहसीलदार हरदा || देश के सबसे बड़े और ऐतिहासिक अभियान के तहत इंदौर जिले में भी शुरू हुआ उत्साह और उमंग भरे माहौल के साथ कोरोना टीकाकरण || ग्राम रहटगांव में बर्ड फ्लू की पुष्टि पाए जाने पर कलेक्टर ने किए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी || महिला सुरक्षा पर केंद्रित नाटक का हुआ मंचन
अन्य ख़बरें
कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ समिति की बैठक सम्पन्न
स्वास्थ्य संस्थाओं के कायाकल्प अभियान को संस्था प्रभारी गंभीरता से ले लापरवाही बर्दास्त नहीं होगी- कलेक्टर श्री शुक्ला, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की परिकल्पना अनुसार स्वास्थ्य विभाग तैयार करें कार्ययोजना, निरन्तर होगी समीक्षा
देवास | 20-नवम्बर-2020
 
     कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला की अध्यक्षता में आज शुक्रवार को कलेक्टर कार्यालय में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्रीमती शीतला पटले, नगर निगम आयुक्त श्री विशाल सिंह चौहान, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एम.पी. शर्मा, सिविल सर्जन डॉ. अतुल कुमार बिडवई, आ.एम.ओ डॉ. एम.एस.गोसर, समस्त जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं विकासखण्ड कार्यक्रम अधिकारी, नोडल अधिकारी एवं जिला महिला एवं बाल विकास विभाग अधिकारी उपस्थित थे।
          बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एम.पी शर्मा ने जिले में चल रहे स्वास्थ्य योजनाओं के बारे में जानकारी दी तथा समस्त कार्यक्रम अधिकारियों ने प्रेजेंटेशन के माध्यम से कार्यक्रमों की लक्ष्य उपलब्धी की विस्तृत जानकारी दी।
        बैठक में जिले में शिशु स्वास्थ्य एवं मातृ स्वास्थ्य सेवाओं के अंतर्गत बच्चों एवं महिलाओं का टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली सेवाओं की समीक्षा की। बताया गया कि बच्चों के जन्म एवं गर्भवती पंजीयन, टीकाकरण, एनीमिया प्रबंधन एवं संस्थागत प्रसव की सेवा को बेहतर बनाने के लिए शासन के द्वारा “अनमोल एप” में एन्ट्री की जाती हैं एवं विभिन स्तर पर प्रभारी अधिकारियों द्वारा समीक्षा की जाती है। कलेक्टर श्री शुक्ला ने अनमोल एप में शतप्रतिशत पंजीयन करने के निर्देश दिए। उन्होंने गर्भवती महिलाओं को शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में सम्पूर्ण सेवाएं उपलब्ध हो एवं नॉर्मल डिलीवरी का उचित प्रबंधन एवं अधिकारियों द्वारा निरन्तर मॉनिटरिंग कर गुणवत्तापूर्ण सेवायें प्रदान करने के निर्देश  सिविल सर्जन, नोडल अधिकारियों तथा समस्त खंड शिक्षा अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने एक सप्ताह के अंदर शिशु स्वास्थ्य एवं मातृ स्वास्थ्य सेवाओं की शत-प्रतिशत इंट्री अनमोल एप में करने के निर्देश दिए।  
     कलेक्टर श्री शुक्ला ने   जिला टीकाकरण अधिकारी को निर्देश दिए कि 23 से 29 नवम्बर 2020 तक चलने वाले नेशनल न्यू बोर्न विक एक्टिविटी के अंतर्गत विस्तृत कार्य योजना बनाकर सभी बीएमओ को उपलब्ध कराएं एवं प्रतिदिन निर्धारित एक्टिविटी की कार्यवाही संस्थाओं में की जाकर अधिक से अधिक लोगों को जागरूक किया जाए।  मैटरनल एंड चाइल्ड डेथ के बारे में विस्तार पूर्वक समीक्षा में यह देखा गया है कि प्रथम 4 सप्ताह में नवजात शिशुओं की मृत्यु का प्रतिशत अधिक होती है जिस पर उचित प्रबंधन करने के निर्देश दिए। जन्म के समय बच्चे और माता की मृत्यु ना हो इसके लिए डिलीवरी संस्थाओं की विशेष समीक्षा कर निरंतर मॉनिटरिंग के निर्देश दिये। एनसीडी प्रोग्राम के तहत शत प्रतिशत एंट्री होना चाहिए टीकाकरण कार्यक्रम में प्रत्येक बच्चे का शतप्रतिशत टीकाकरण विशेष अभियान चलाकर पूर्ण करने के निर्देश जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. के.के कल्याणी को दिए। बैठक में महिला बाल विकास जिलाधिकारी द्वारा कुपोषित बच्चों के बारे में चलाए जा रहे कार्यक्रम की जानकारी दी गई एवं कार्यकर्ताओं द्वारा सर्वे के माध्यम से अधिक से अधिक बच्चों को एनआरसी में भर्ती कर उपचार के लिए भेजने की बारे में बताया।
        राष्ट्रीय टी.बी. कार्यक्रम के तहत जिले में अच्छा कार्य एवं सेवाएं प्रदान की जा रही है। देवास जिला मध्यप्रदेश में सभी जिलों के मुकाबले नंबर एक पर है। निरंतर तीन त्रैमास समीक्षा करने पर देवास जिला नंबर 01 पर पाया गया, जो एक बड़ी उपलब्धी है। डॉ शिवेंद्र मिश्रा द्वारा निरंतर समीक्षा कर ग्राउंड लेवल तक सेवाओं की मॉनिटरिंग की जा रही है। खातेगांव और सोनकच्छ में स्पुटम एग्जामिनेशन कम होने पर उन्हें निर्देश दिए कि संस्था में ओपीडी का 20 प्रतिशत स्पुटम जांच कराएं जिससे कि अधिक से अधिक लोगों की जांच हो सके। राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम अंधत्व कार्यक्रम, आशा कार्यक्रम, राष्ट्रीय बाल सुरक्षा कार्यक्रम, ई-संजीवनी की भी समीक्षा की गई। परिवार कल्याण कार्यक्रम में शत-प्रतिशत लक्ष्य की उपलब्धि के लिए विशेष कार्य योजना बनाकर बीएमओ निरंतर सर्जन से बात कर लक्ष्य की पूर्ति करे। कलेक्टर ने कहा कि मलेरिया कार्यक्रम के अंतर्गत मलेरिया, डेंगू का सर्वे निरंतर किया जावे वार्ड क्षेत्र में निरंतर प्रचार प्रसार के निर्देश मलेरिया अधिकारी को दिए।
        कायाकल्प अभियान अंतर्गत जिला चिकित्सालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सहित समस्त संस्थाओं में कार्य की प्रगति की विस्तृत समीक्षा की गई जिसमें अधिकांश बिंदुओं के नंबर कम होने पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए सिविल सर्जन सहित समस्त बीएमओ को निर्देश दिए कि  अनुविभागीय अधिकारियों की अध्यक्षता में क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों, समाजसेवियों, एन.जी.ओ. के साथ बैठक में विशेष रणनीति के तहत आवश्यक बिंदुओं पर स्वास्थ्य संस्थाओं के कायाकल्प की कार्ययोजना तैयार कर कायाकल्प में कार्य किया जाएं एवं सप्ताहिक समीक्षा की जाये। संस्था प्रमुख का दायित्व होगा कि वह शासन के दिशा निर्देशों के अनुसार समस्त बिंदुओं पर समीक्षा करते हुए कायाकल्प के कार्य को पूर्ण कर स्वास्थ्य सेवाओं की रैंकिंग में सुधार कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें।
         कोविड-19 कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ विभाग निरंतर प्रयास कर रहा है लेकिन संक्रमित मरीजों की संख्या में फिर से इजाफा होने को देखते हुए समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं में पूर्ण आवश्यक व्यवस्थाएं रखने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने जिला अस्पताल में कोविड-19 को पूर्ण व्यवस्थित एवं चिकित्सक स्टाफ की ड्यूटी आवश्यक संसाधन की पर्याप्तता सुनिश्चित करने के निर्देश सिविल सर्जन को दिये । सभी बी.एम.ओ. क्षेत्र में निरन्तर नागरिकों को कोरोना संक्रमण से बचाव की जानकारी दें, उन्हें फीवर क्लीनिक में जांच कराने हेतु जागरूक करें संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेकर जांच हेतु भेजें एवं क्षेत्र में निरंतर मॉनिटरिंग करें।
          कलेक्टर श्री शुक्ला ने “आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश” के अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग से संबंधित दिशा निर्देशों का गहनता से अध्ययन कर विकासखंड एवं जिला स्तर पर की जाने वाली गतिविधियों की विशेष कार्य योजना बनाकर क्रियान्वयन करने का निर्देश दिया। मैदानी कार्यकर्ता से लेकर जिला स्तरीय समस्त कार्यक्रम अधिकारियों को आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश की परिकल्पना के अनुरूप कार्ययोजना तैयार कर कार्य करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए।
(57 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer