समाचार
|| निर्धारित दर से अधिक कीमत पर शराब बेचने के मामलों में नौ दुकानों से एक दिन के लिए शराब के क्रय-विक्रय पर प्रतिबंध || माफिया के विरुद्ध प्रशासन की कार्यवाही जारी || आज दिनांक तक 45331 व्यक्तियों का अभी तक लिया गया सैंपल || कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने पर 89 व्यक्ति डिस्चार्ज || 639 व्यक्तियों से वसूला गया 63 हजार रुपये का जुर्माना - रोको-टोको अभियान || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी गुरु नानक जयंती की बधाई || लोक निर्माण विभाग ने भरवाए छावनी की सडक के गहरे गड्ढे || देवास जिले में रविवार को ग्रामीण क्षेत्रो में 8 हजार 533 चालान मास्क नही पहनने पर बनाये गये तथा 97 हजार 169 रुपये की वसूली की गईं || शाजापुर जिले में आज 09 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले || 8 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई
अन्य ख़बरें
गौ-अभ्यारण्य सालरिया को आदर्श बनाया जाएगा
गौ-अभ्यारण्य को गौ-पर्यटन केन्द्र बनाया जाएगा, गायों के गोबर एवं गौमूत्र से निर्मित उत्पादों को बढ़ावा दिया जाकर अलग पहचान दिलाई जाएगी, आंगनवाड़ी में बच्चों को पोषण आहार में अंडे की जगह गाय का दूध दिया जाएगा, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गौ-अभ्यारण्य सालरिया में गौ संवर्द्धन एवं संरक्षण विषय पर जनसभा को संबोधित किया
आगर-मालवा | 22-नवम्बर-2020
      मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा  कि गौ-अभ्यारण्य सालरिया को एक आदर्श गौ-अभ्यारण्य बनाया जाएगा। गायों के गोबर एवं गौमूत्र से निर्मित उत्पादों को बढ़ावा दिया जाकर देश-प्रदेश मे एक अलग पहचान दिलाई जाएगी। गायों के संरक्षण एवं संवर्द्धन हेतु गठित गौ-केबिनेट द्वारा देश-विदेश में गोसेवा का अध्ययन कर प्रदेश में बेहतर प्रबंधन करने का प्रयास किया जाएगा। प्रदेश में गायों को भटकने नहीं दिया जाएगा। इसके लिए गौशालाओं के निर्माण के लिए शासकीय भूमि के आवंटन के नियम बनाए जाएंेगे। गौवंश के संरक्षण के लिए गौवंश अधिनियम बनाकर उसका संचालन किया जाएगा। वन विभाग की खाली पड़ी भूमि को चारागाह के रूप विकसित किया जाएगा। आंगनवाड़ी में बच्चों को पोषण आहार में अंडे की जगह गाय का दूध वितरित किया जाएगा। जिससे पशुपालकों को भी दूध विक्रय से लाभ होगा तथा बच्चों को भी अमृत समान दूध का पोषण मिलेगा। उक्त बाते मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज रविवार को आगर-मालवा जिले के गौ-अभ्यारण्य सालरिया में गौ संवर्द्धन एवं संरक्षण विषय पर जनसभा को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दिन ही भगवान श्रीकृष्ण एवं भगवान बलराम पहली बार गाय चराने जंगल में गए थे। इसलिय प्रतिवर्ष कार्तिक शुक्ल पक्ष की अष्टमी को गोपाष्टमी के रूप में मनाते है। इस दिन गौमाता एवं गोपालक की पूजा की जाती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सालरिया गौ-अभ्यारण्य में गायों का पूजन कर देश एवं प्रदेश की जनता की सुख-समृद्धि की कामना की।
         मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गौमाता में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास है। अनादिकाल से ही ऋषि, मुनि एवं संतो ने गाय की भगवान के रूप में सेवा-पूजा की है। पहले गौमाता के बिना खेती संभव नहीं थी, लेकिन आज के युग में खेती कार्य ट्रेक्टर से होने लगा है। जिससे हमारी श्रद्धा गौमाता के प्रति थोड़ी कम हो गई है, इसी कारण गौवंश इधर-उधर भटक रहा हैं। अब गौवंश इधर-उधर नहीं भटके इसलिए सरकार द्वारा लगभग दो हजार गौशालाएं खोली जाएगी। जिनका संचालन सरकार एवं समाज दोनों को मिलकर करना होगा। साथ ही स्वयं सेवी संस्थाओं का भी सहयोग गौशालाओं के संचालन में लिया जाएगा। गौवंश के उपचार हेतु गौवंश संजीवनी योजना फिर से शुरू की जाएगी। पूर्व की सरकार ने जो गौ सदन 1999 मे बंद कर दिये थे, वो सभी आठो गौ,सदन फिर से प्रारम्भ किये जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पंचायतों में गौवंश के प्रबंधन के लिए राज्य वित्त आयोग की राशि का उपयोग किया जाएगा। गौशालाओं में बिजली-पानी की व्यवस्था हेतु पंच-परमेश्वर की राशि का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मैं हर जिला कलेक्टर को निर्देशित कर रहा हूँ कि प्रत्येक गौशाला के लिए जनपद पंचायतवार नोडल अधिकारी नामंाकित करें। नोडल अधिकारी गौशालाओं का नियमित भ्रमण एवं निरीक्षण कर व्यवस्थाओं को बेहतर करने का कार्य करेंगें। गौवंश उत्पादों के संवर्धन एवं विक्रय के लिए बेहतर व्यवस्था की जाएगी।
     मुख्यमंत्री ने  कहा कि गाय का हर उत्पाद अमृत समान है। गाय के गोबर से घर की लिपाई-पुताई करने से रेडिएशन से नुकसान नहीं  पहुंचता है तथा सकारात्मक ऊर्जा आती है। गाय के गोबर से बने कण्डे एवं गौकाष्ट का उपयोग करने से लकडि़यों की वजह से कटने वाले पेड़ बचेंगें।  जिससे पर्यावरण का संरक्षण होगा। किसान खेती में रासायनिक खाद की जगह गाय के गोबर से बनी खाद का उपयोग करें, जिससे जमीन की उर्वरा शक्ति भी बढ़ेगी एवं जैविक खादों से उगने वाले फल, सब्जियां एवं अनाज हमें बीमारियों से बचाऐंगे। रासायनिक खाद धीमा जहर है, जो खेती में प्रयोग करने से कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बनती है, इसलिए सभी किसान खेतों में गायों के गोबर से बनी खाद ही प्रयोग में लाए। उन्होंनें कहा कि सभी मुक्तिधाम में गायों के गोबर से बनी गोकाष्ट एवं कण्डे का उपयोग करें। जिससे पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ गौ-उत्पादों को बढ़ावा मिलेगा।
        मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पहली रोटी गाय को एवं अंतिम रोटी को कुत्तें को खिलाना भारतीय संस्कृति रही है। इसलिए गौमाता की रक्षा के लिए सभी को सहयोग करना होगा। मैं यह भी सोच रहा हूॅ कि लोगों से अलग-अलग मदद लें, उसकी जगह जनता पर छोटा-मोटा टैक्स लगाकर पैसा वसूल कर लें और गौमाताओं की सेवा में लगाएं। सालरिया गौ-अभ्यारण्य को गौ-पर्यटन केन्द्र बनाया जाएगा। अभ्यारण्य परिसर में पेड़-पौधे लगाए जाएंगे, चैक डेम, स्टाप डेम आदि का निर्माण करवाया जाएगा। अभ्यारण्य में रिसर्च सेंटर प्रारंभ किया जाएगा। गायों के गोबर एवं मूत्र से बनने वाले उत्पादों के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था करवाई जाएगी। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी शासकीय विभागों में गौ-अभ्यारण्य में गो-मूत्र से निर्मित गो-फिनाईल का उपयोग किया जाए।
       कार्यक्रम में मध्यप्रदेश शासन के पशुपालन मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री डॉ. महेन्द्रसिंह सिसौदिया, स्वामी श्री अखिलेश्वरानंदजी, डॉ अवधेश पुरी जी महाराज, पूर्व अध्यक्ष गौ-संवर्द्धन बोर्ड एवं पूर्व राज्य सभा सदस्य श्री मेघराज जैन, सांसद देवास-शाजापुर श्री महेन्द्र सिंह सोलंकी, सांसद राजगढ़ श्री रोड़मल नागर, विधायक सुसनेर श्री विक्रम सिंह राणा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कलाबाई गुहाटिया, जनपद अध्यक्ष सुनीता पाटीदार, पूर्व विधायक श्री गोपाल परमार, श्री मुरलीधर पाटीदार, जिलाध्यक्ष श्री गोविंद सिंह बरखेड़ी सहित अन्य जनप्रतिनिधि मंचासीन रहे। कार्यक्रम में अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जेएन कंसोटिया, संभागायुक्त श्री आनंद कुमार शर्मा ,पुलिस अधीक्षक श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर आगर मालवा श्री अवधेश शर्मा, एसपी श्री राकेश कुमार सगर, संयुक्त संचालक पशु पालन एवं पशु चिकित्सा उज्जैन डॉक्टर नरेंद्र बामनिया, उप संचालक गो-अभ्यारण्य सालरिया एसव्ही कोसरवार, उपसंचालक डॉक्टर एचपी त्रिवेदी, उपसंचालक रतलाम पशु चिकित्सा डॉ एके राणा, पशु चिकित्सा आगर मालवा के डॉ. अरविंद महाजन, सीईओ जनपद पंचायत श्री एके त्रिवेदी, पशु पालन व पशु चिकित्सा विभाग के डॉक्टर गोदानी ,डॉ एसके पाठक, एवीएफओ श्री मनोज चौहान,एवं गौ सेवा से जुड़े अन्य गणमान्य नागरिक तथा अधिकारीगण मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन एमपी एग्रो जिला प्रबंधक ओपी विजयवर्गीय द्वारा किया गया।
 
(8 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2020दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2627282930311
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer