समाचार
|| कोविड-19 के उपचार दर रिशेप्शन काउन्टर पर प्रदर्शित करें || किसान पंजीयन के लिए केंद्र प्रभारियो तथा ऑपरेटर्स को प्रशिक्षित किया गया || जिला न्यायालय का कार्य नियमित रूप से प्रारंभ || स्वामी विवेकानंद शासकीय वाणिज्य महाविद्यालय में अतिथि विद्वान के पद की पूर्ति हेतु आवेदन आमंत्रित || जिला बाल कल्याण समिति के 3 सदस्यों का कार्यकाल पूर्ण हुआ || अनीता की टेंशन खत्म हुई, संबल योजना से मिली 4 लाख रुपए की मदद "खुशियों की दास्तां" || दो आरोपी जिला बदर || अवैध शराब बेचने वाले आरोपी को मिली न्यायालय उठने तक की सजा एवं लगा जुर्माना || जिला जल एवं स्वच्छता समिति की बैठक होगी 25 जनवरी को || जानकारी के स्रोतों पर चर्चा
अन्य ख़बरें
नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य करेगा मध्यप्रदेश- मुख्यमंत्री श्री चौहान
-
रीवा | 26-नवम्बर-2020
      मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रो. चेतन सोलंकी द्वारा सौर ऊर्जा के क्षेत्र में किये गये नवाचारों की प्रशंसा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश ऐसा प्रदेश है जहाँ हीरे निकलते हैं। प्रो. चेतन किसी हीरे से कम नहीं हैं। आज जब निरंतर पृथ्वी का तापमान बढ़ रहा है सौर ऊर्जा के वैकल्पिक साधनों के प्रचार-प्रसार और उपयोग की अत्यधिक आवश्यकता है, तब प्रो. चेतन ने एनर्जी स्वराज यात्रा की पहल कर अत्यन्त सराहनीय कार्य किया है। इसके लिये उन्होंने एनर्जी स्वराज फाउण्डेशन स्थापित किया है। मध्यप्रदेश शासन इसे पूरा सहयोग करेगा।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बिगड़ते पर्यावरण से समाज के अस्तित्व पर खतरा उत्पन्न हो गया है। सौर ऊर्जा सहित अक्षय ऊर्जा के अन्य साधनों का उपयोग हमें इस खतरे से बचा सकता है। मध्यप्रदेश सौर ऊर्जा के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य करके दिखायेगा। वर्ष 2012 में 400 मेगावॉट के सौर ऊर्जा उत्पादन के बाद वर्तमान में नवकरणीय ऊर्जा से 5000 मेगावॉट उत्पादन तक हम पहुँच चुके हैं। वर्ष 2022 तक 10 हजार मेगावॉट उत्पादन का लक्ष्य है।  
    मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर ऊर्जा को अधिक से अधिक लोकप्रिय बनाने के प्रयास किये जायेंगे। मध्यप्रदेश के युवा प्रो. चेतन सोलंकी जन-जागृति के लिये परिवार से दूर रहकर 11 वर्ष की एनर्जी स्वराज यात्रा पर निकले हैं। उनका इस राष्ट्र कल्याण के महत्वपूर्ण कार्य के लिये अभिनन्दन करते हुए उन्हें मध्यप्रदेश का ब्रॉण्ड एम्बेसडर बनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भी कहा है कि सोलर एनर्जी प्योर, श्योर और सेक्योर है। इससे पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं है।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि यह विचारणीय है कि हम कैसी धरती चाहते हैं। मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा के उपयोग की शुरूआत नीमच में 135 मेगावाट के संयंत्र से हुई। बाद में रीवा में 750-750 मेगावॉट के संयंत्र शुरू हुए। इसे निरन्तर बढ़ाया जायेगा। अनेक जिलों में सौर ऊर्जा परियोजनाओं का क्रियान्वयन हम्गा। सस्ती बिजली का लाभ नागरिककों को प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश में ओंकारेश्वर में फ्लोटिंग सोलर  प्लाट पैनल स्थापित होंगे। सौर ऊर्जा का उपयोग घरों तक बढ़ाया जायेगा। श्री चौहान ने सोलंकी द्वारा विकसित ऐसे घर को उपयोगी बताते हुए इसे बिजली पर दी जाने वाली करोड़ों रूपये की सब्सिडी की बचत का माध्यम भी बताया।
 
(56 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2021फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer