समाचार
|| अमानक पोलिथिन के 38 कटटे जप्त कर किया एक लाख रूपये का स्पॉट फाईन || दुर्गम इलाके में अथक परिश्रम कर डाली 18 किमी बिजली लाइन (सफलता की कहानी) || जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट आज इंदौर में || कोरोना महामारी से निपटने के लिये संभाग में अन्य प्रांतों के सीमावर्ती जिलों में लगाये गये चेकपोस्ट || अपराजिता से होंगी प्रदेश की बालिकाएँ आत्मनिर्भर || मुख्य सचिव की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय निगरानी समिति गठित || बालिकाओं की आत्म रक्षा के लिए 12 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का हुआ शुभारंभ || नेशनल वाटर अवार्ड हेतु प्रविष्टियां 10 मार्च तक आमंत्रित || आर्थिक सहायता स्वीकृत || सैनिक भर्ती रैली 20 से 30 मार्च तक कुशाभाऊ ठाकरे स्टेडियम में
अन्य ख़बरें
किसानों द्वारा लाया गया 200 क्विंटल गुड़ और 50 क्विंटल तुअर दाल 2 दिन में ही बिकी
गुड़ मेला सम्पन्न पर भोपालवासियों की मांग पर और उत्पाद बुलाकर 13 जनवरी तक करेंगे बिक्री
नरसिंहपुर | 11-जनवरी-2021
    देश और दुनिया मे मशहूर करेली गुड़ और गाडरवारा की तुअर दाल ने भोपाल में धूम मचा दी है। मेला में किसानों द्वारा लाये गये 200 क्विंटल से अधिक गुड़ और 50 क्विंटल तुअर दाल हाथों हाथ बिक गई। इन जैविक उत्पादों की डिमांड देखते हुए अनेक किसानों ने आपने उत्पाद फिर बुलाये है। गुड़ मेला तो रविवार को खत्म हो गया पर संक्रांति मेला में 13 जनवरी तक ये उत्पाद उपलब्ध कराए जाएंगे।
         "एक जिला एक उत्पाद" की अवधारणा को लेकर भोपाल में गुड़ मेला सम्पन्न हुआ।
किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग एवं जिला प्रशासन नरसिंहपुर द्वारा "एक जिला एक उत्पाद" में मुख्य आकर्षण प्रदेश के नरसिंहपुर जिले के करेली का गुड़ एवं गाडरवारा की तुअर दाल रही। नागरिकों द्वारा उनके उत्पाद खरीदकर गुड़ एवं दाल उत्पादक किसानों को जैविक खेती  हेतु प्रोत्साहित किया।  कृषक श्री राकेश दुबे करताज एवं श्री कृष्ण पाल सिंह चिरचिटा द्वारा जैविक गुड़ उत्पादन पद्धति के बारे में अवगत कराया। नरसिंहपुर जिले से 40 कृषकों द्वारा 20 स्टाल गुड़, तुअर दाल के लगाए गए थे। जिसमें गुड़ विभिन्न फ्लेवर्स  काली मिर्च, इलायची, अदरक, आंवला में उपलब्ध है।  विभिन्न आकार के गुड़, ब्राउन शुगर (गुड पाउडर) एवं राब (शीरा)विक्रय हेतु विभिन्न पैकिंग में उपलब्ध थे। नरसिंहपुर जिले के 40 से 50 किसानों से स्व सहायता समूहों और एफपीओ द्वारा पारंपरिक तरीके से तुअर की देशी प्रजातियां और शोध के बाद तैयार की गई नवीनतम प्रजातियों से तुअर  उत्पादन करते हैं। गाडरवारा की दाल शीघ्र पकने के लिए मशहूर है इसके साथ-साथ मध्य प्रदेश के विभिन्न जिलों के स्व सहायता समूह अपने उत्पाद यहां लेकर विक्रय एवं प्रदर्शन किया।
 
(46 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2021मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer