समाचार
|| कमिश्नर श्री सक्सेना राजस्व अधिकारियों की गूगल मीट से 6 मार्च को बैठक लेंगे || रायरू पर खनिज माफिया नियंत्रण हेतु फ्लाइंग स्कॉट तैनात || इंदौर जिले में आज 7307 लोगों ने लगवाया कोरोना का टीका || इंदौर जिले में एक साथ 28 अरोपी जिलाबदर || नंदू भैया जैसा जन-प्रतिनिधि नहीं मिलेगा || सशस्त्र सेना झंडा दिवस हेतु धनराशि एकत्र करने में उत्कृष्ट प्रदर्शन पर मिला सम्मान || सिद्धहस्त शिल्पियों से शिल्प अभिरूचि प्रस्ताव आमंत्रित || आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत || पचमढ़ी में आयोजित होने वाला “महादेव मेला“ स्थगित || एनआरसी (पोषण पुनर्वास केंद्र) में हुए नवाचारों से बड़वानी जिला प्रथम
अन्य ख़बरें
कृषि विज्ञान केंद्र उमरिया द्वारा घर की छत पर विकसित सब्जियों के उत्पादन का माडल हो रहा है लोकप्रिय (खुशियों की दास्तां)
-
उमरिया | 12-फरवरी-2021
      कृषि विज्ञान केंद्र उमरिया द्वारा खान पान में विभिन्नता एवं पौष्टिक हरी जैविक सब्जी के रोजाना इस्तेमाल को लेकर एक मॉडल विकसित किया है जिसमे सात गमलों में सात प्रकार की सब्जियों का उत्पादन किया जा सकता है और रोजाना वैराइटी बदलकर ताजी हरी सब्जी उपयोग में लाई जा सकती है। कृषि वैज्ञानिकों की अपील पर जिले के शहरी एवं ग्रामीण लोग इस मॉडल को देखने एवं समझने कृषि विज्ञान केंद्र पंहुच रहे हैं। कृषि विज्ञान केंद्र उमरिया के प्रशासनिक भवन पर छत मे लगाई गई इन सब्जियों को वहां से गुजरने वाला हर व्यक्ति एक बार नजर अवश्य डालता है। धीरे धीरे कृषि वैज्ञानिकों द्वारा छत पर बागवानी अभियान के तहत सात दिन सात क्यारी मॉडल को देखने पंहुच रहे हैं।
    उमरिया निवासी दिलीप का कहना है कि बाजार में मिलने वाली रासायनिक खादों से उत्पादित हानिकारक सब्जियों के दुष्प्रभाव से लोगों को बचाने एवं विटामिन युक्त ताजी सब्जी की रोजाना घर मे उपलब्धता के उद्देश्य से कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों ने यह मॉडल विकसित किया है । इस माडल से कम जगह एवं कम लागत से जैविक खाद का प्रयोग कर उगाई जाने वाली इन सब्जियों में कई तरह के विटामिन, आयरन, प्रोटीन और शरीर के लिए आवश्यक तत्व मौजूद होतें है जो कई बीमारियों से निपटने में  सक्षम होतें है। इन सब्जियो के उपयोग से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ने के साथ ही बीमारियों से बचाव किया जा सकेगा।
    डॉ विनीता सिंह (कृषि वैज्ञानिक) कृषि विज्ञान केंद्र उमरिया के वैज्ञानिकों ने मिलकर  कार्यालय के छत में विकसित किये गए इस मॉडल में पालक,मेथी,हरी धनिया,टमाटर,लाल भाजी,बैगन के साथ कम जगह में ही मशरूम उत्पादन की लघु इकाई भी स्थापित की गई है। कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक कम जगह कम लागत एवं जैविक खाद के इस्तेमाल से लोग पौष्टिक हरि सब्जी का उत्पादन कर रासायनिक सब्जियों के हानिकारक प्रभाव से बचा जा सकता है।
प्रस्तुतकर्ता
गजेंद्र द्विवेदी
 
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
फरवरीमार्च 2021अप्रैल
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
22232425262728
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer