समाचार
|| आज का अधिकतम तापमान 32.2 डि.से. || लिफ्ट संबंधी सुरक्षा प्रावधानों का करें कड़ाई से पालन : नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह || खजुराहो नृत्य समारोह में शास्त्रीय नृत्यों की प्रस्तुतियों ने समा बाँधा || महिला बाल विकास विभाग मैदानी अधिकारीयों-कर्मचारियों को करेगा प्रोत्साहित || युवाओं को प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार : लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव || 10 किलोवाट तक के उपभोक्ताओं को ईमेल, व्हाट्सएप एवं एसएमएस से मिलेंगे बिजली बिल || प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि आजाद भारत में सबसे बड़ा उपहार - मंत्री श्री पटेल || सड़क दुर्घटनाओं में कमी के लिये सशक्त यातायात प्रबंधन आवश्यक-एडीजी श्री सागर || प्रदेश में कोरोना संबंधी सभी सावधानियाँ बरती जाये || जिले में दस्तक अभियान जारी
अन्य ख़बरें
अंचल, नगर, ग्राम के इतिहास पर शोध कार्य को बढ़ावा देना चाहिये -डॉ.मिश्र
माधव कॉलेज में इतिहास विभाग द्वारा वेबिनार आयोजित किया गया
उज्जैन | 12-फरवरी-2021
   क्षेत्रीय इतिहास का बहुत महत्व है। हमें अपने अंचल, नगर और ग्राम के इतिहास पर शोध कार्य को बढ़ावा देना चाहिए। हमें अपने आसपास के इतिहास को खोजने का प्रयास करना चाहिए। इस आशय के विचार माधव कॉलेज में स्नातकोत्तर इतिहास विभाग द्वारा ''''क्षेत्रीय इतिहास के विविध आयाम'''' विषय पर आयोजित राष्ट्रीय वर्चुअल वेबीनार में मुख्य वक्ता प्रख्यात इतिहासकार भोपाल के डॉ.सुरेश मिश्र ने व्यक्त किए। विशिष्ट वक्ता होशंगाबाद की प्राध्यापिका डॉ.हंसा व्यास ने कहा कि हमें क्षेत्रीय इतिहास को ध्यान में रखते हुए राष्ट्र निर्माण की ओर अग्रसर होना चाहिए। स्थानीय व्यवसाय और बाज़ार को सामने लाना होगा। हमें शिक्षित और साक्षर भारत का निर्माण करना है। नए सिरे से इतिहास लेखन करना होगा।
कार्यक्रम के तीसरे वक्ता प्राध्यापक और विक्रम विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम समन्वयक डॉ.प्रशान्त पुराणिक ने कहा कि क्षेत्रीय इतिहास व्यक्ति और समाज का इतिहास है। इसलिए आजकल विश्वभर के इतिहासकार  क्षेत्रीय इतिहास पर बल दे रहे हैं। संत समाज, जैन साध्वियों का  वर्षावास, मन्दिरों की पूजा परम्परा, शिल्प कला आदि पर भी शोध कार्य हो सकता है। ग्वालियर के इतिहासकार  डॉ.संजय स्वर्णकार ने कहा कि आजकल क्षेत्रीय इतिहास पर बल दिया जा रहा है। इससे इतिहास के विविध आयाम उद्घाटित हो रहे हैं। बुंदेलखंड के इतिहास में बहुत सी बातें हैं जो राष्ट्रीय इतिहास में दर्ज कराई जा सकती हैं। सूक्ष्म इतिहास लेखन  भी होना चाहिए।
माधव कॉलेज के प्राचार्य डॉ जे.एल.बरमैया ने कार्यक्रम आयोजित करने के लिए इतिहास विभाग को बधाई दी और क्षेत्रीय इतिहास लेखन की आवश्यकता पर बल दिया।  इतिहास विभाग की अध्यक्ष डॉ.अल्पना दुभाषे ने विशिष्ट अंदाज़ में कार्यक्रम का संचालन किया। डॉ.अंशु भारद्वाज ने अतिथि परिचय दिया। डॉ.जीवन बाला लुणावत ने संक्षेपिका प्रस्तुत की। डॉ.रफीक नागौरी ने आभार व्यक्त किया।

 
(13 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2021मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer