समाचार
|| कोविड-19 मीडिया बुलेटिन - जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से 139 नये व्यक्ति हुये स्वस्थ || किसानों को 5 दिनों के मौसम को देखते हुये कृषि कार्य करने की सलाह || अभी तक जिले में 178046 व्यक्तियों ने लगवाया टीका || कोरोना कर्फ्यू के दौरान पथ विक्रेताओं के माध्यम से फल-सब्जी की आपूर्ति है जारी || जिले के खरीदी केन्द्रों में गेहूं की खरीदी जारी || विकासखंड चौरई के एक ग्राम व चौरई नगर के 2 वार्डों का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || विकासखंड परासिया के 2 नगरों का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || ट्रेन से आने वाले 7 यात्रियों को किया गया कोरेंटाईन || विकासखंड जुन्नारदेव के एक ग्राम व दो नगरों का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित || विकासखंड चौरई के एक ग्राम व एक नगर का निर्धारित क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया घोषित
अन्य ख़बरें
कच्चे मकान से बारिश में होती थी बहुत परेशानी -सीताराम प्रधानमंत्री आवास योजना से मिला सपनों का आशियाना "खुशियों की दास्तां"
-
उज्जैन | 24-फरवरी-2021
    उज्जैन की तराना तहसील के ग्राम तोबरीखेड़ा में रहने वाले सीताराम पिता भेरूजी ने जिन्दगी के कई साल एक छोटे से कच्चे मकान में गुजारे। सर्दी और गर्मी के दिन तो जैसे-तैसे बित जाते थे, लेकिन बारिश के दिनों में जब कच्चे मकान के पतरे की छत से जगह-जगह से जब पानी टपकता था तो सीताराम और उनके परिवारवालों को पूरे बारिश के मौसम के दौरान दूसरों के घरों में सिर छुपाने के लिये जाना पड़ता था। सीताराम के परिवार में पत्नी लक्ष्मीबाई, दो लड़के और एक लड़की है। सीताराम और उनके दोनों लड़के मजदूरी कर जैसे-तैसे अपना गुजर-बसर कर पाते हैं। लड़की की शादी पास ही के गांव में की है।
   मेहनत करके जो थोड़ा बहुत रूपया उन्होंने जमा किया था, वह लड़की की शादी में खर्च हो गया। इस वजह से सीताराम ने यह उम्मीद ही छोड़ दी थी कि आजकल के महंगाई के जमाने में कभी खुद अपना पक्का मकान बना सकेंगे। सिर पर पक्की छत होना कितना जरूरी है, इसका एहसास उसी को होता है, जिसके पास यह नहीं होती।
   सीताराम को कुछ महीने पहले ही प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्का मकान बनाने के लिये अलग-अलग किश्तों में राशि प्रदाय की गई। जब अपना खुद का पक्का मकान बनकर आंखों के सामने तैयार हुआ तो आत्‍माराम और उनके पूरे परिवार को बहुत खुशी हुई। वे हमेशा से यही तो चाहते थे कि कुछ दिन जिन्दगी के सुकून से पक्के मकान में गुजार सकें। सपनों के आशियाने को पूरा बनते हुए देखकर सीताराम की आंखों में खुशियों के आंसू छलक आये। उन्होंने गृह प्रवेश के दौरान शासन का बहुत-बहुत धन्यवाद व्यक्त किया।

 
(52 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2021मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2930311234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293012
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer