समाचार
|| निपाह वायरस से बचाव के लिये स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी || प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़कों के संधारण कार्य 30 जून तक पूर्ण करें- मंत्री श्री पटेल || वर्षा संबंधी गतिविधियों पर सतत निगरानी रखने नियंत्रण कक्ष स्थापित || मण्डी बोर्ड द्वारा छ: माह में 1155 हितग्राही को 9.56 करोड़ की राशि का प्रदाय || अल्पकालीन फसल ऋण की देय तिथि में वृद्धि || सप्ताह में दो दिन ग्राम पंचायत मुख्यालय में बैठेंगे पटवारी || म.प्र. अधिवक्ता सुरक्षा अध्यादेश राष्ट्रपति को प्रेषित || ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया में शिकायत पर 10 कियोस्क सेंटर के विरुद्ध कार्यवाही || पाँचवा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को || पीईवी द्वारा आयोजित परीक्षा के लिये निःशुल्क परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण हेतु आवेदन आमंत्रित
आस-पास
बड़वानी
बुरहानपुर
धार
...और खबरें
इन्दौर
झाबुआ
खण्डवा
...और खबरें
खरगौन
अलिराजपुर
...और खबरें
जिला :: बुरहानपुर
इतिहास
12/20/2011 11:55:06 AM
 
   बुरहानपुर जिला 15अगस्‍त 2003 को पूर्व‍ निमाड़ खण्‍डवा से अलग करके बनाया गया । इसका जिला मुख्‍यालय बुरहानपुर नगर है ।  बुरहानपुर नगर मध्‍यप्रदेश में ताप्‍ती नदी के कि‍नारे स्थित है । ईस्‍वी सन् 1400 के आसपास राजकुमार नासिर खान व्‍दारा स्‍थापित की गई । कई विशाल व्‍दारों से सुसज्जित परकोटों से यह नगर घिरा हुआ है । यह नगर मुगलों के काल में कुछ समय तक राजधानी के रूप में प्रतिष्ठित था । यह नगर मध्‍यकालीन इतिहास के महत्‍वपूर्ण मकबरों, मस्जिदों और ऐतिहासिक वस्‍तुओं से अटा पडा है । नगर के ह्रदयस्‍थल पर जामामस्जिद स्थित है । जिलामुख्‍यालय से 15 किमी दूरी पर स्थित असीरगढ़ किले को दक्‍खन का दरवाजा नाम से जाना जाता था । इसके जीते बिना दक्षिण भारत में प्रवेश नामुमकिन था । इसकी भव्‍यता आज भी दर्शनीय है ।
 

                    मध्‍यकालीन इतिहास:- 1536 इस्‍वी में गुजरात विजय अभियान के पश्‍चात हुमायू बडौदा, भरूच और सूरत होते हुए  बुरहानपुर और असीरगढ आये थे ।  राजा अली खां(1576;1596 ई) जो आदिलशाह के नाम से जाने जाते थे ने अकबर की खानदेश अभियान के दौरान (1577 ग्रीष्‍म) अधीनता स्‍वीकारते हुए अपनी शाह की उपाधि का त्‍याग कर दिया इसी घटना से मुगलों की दक्षिण की नीति बदल गई । इसके उपरान्‍त खानदेश को आधारस्‍थल बनाकर यहॉं से दक्षिण के अभियान चलाए जाने लगे । राजा अली खान पे कई ख्‍यात भवन बनाऐ । जैसे : असीरगढ के उपर (1588AD) जामा मसजिद,  बुरहानपुर की जामा मसजिद (1590AD) असीरगढ में ईदगाह; बुरहानपुर में  मकबरे और सराय, जैनाबाद में सराय एवं मसजिद इत्‍यादि
 

                    राजा अली खान के उत्‍तराधिकारी बहादुरखान(1596-1600 A.D.) ने मुगलों से अपनी स्‍वतंत्रता की घोष्‍ाणा  कर दी और अकबर और उसके राजकुमार दानियाल को मान्‍यता नहीं दी । कुपित होकर अकबर ने 1599 में बुरहानपुर पर चढाई की और 8 अप्रेल 1600 ई. में बिना किसी अवरोध के नगर पर कब्‍जा कर लिया । इस दौरान अकबर असीरगढ के चार दिवसीय व्‍यक्तिगत दौरे पर भी गए ।

 
                     शाहजहॉं का अभियान:-1617 में जहांगीर ने राजकुमार परविज की जगह पर राजकुमार खुर्रम को दक्‍खन का राज्‍यपाल नामांकित किया गया और उसे शाह की उपाधि दी । खुर्रम के नेतृत्‍व में मुगलसेना व्‍दारा शांतिपूर्ण विजयों से प्रसन्‍न होकर जहॉंगीर ने 12 ऑक्‍टोबर 1617 ई. में उसे शाहजहॉं की उपाधि से  सम्‍मानित किया । 1627 में जहांगीर की मृत्‍युपश्‍चात शाहजहॉं मुगल बादशाह बनें । 1 मार्च 1630 को दक्‍खन में असंतोषजनक परिस्थितियों के कारण, मुगलगबादशाह शाहजहॉं बुरहानपुर आए । इस समय वे बीजापुर, गोलकुण्‍डा और अहमदनगर अभियानों के चलते दो वर्षों तक यहॉं रहे । इन अभियानों के दौरान ही शाहजहॉं की प्रिय बेगम मुमताज महल का प्रसवपीड़ा से निधन हो गया । मुमताज महल का शव  ताप्‍ती के उस पार जैंनाबाद के एक बगीचे में दफन किया गया था ।  उसी वर्ष  दिसंबर के शुरू में (1631 AD), मुमताज महल के शारिरीक अवशेष आगरा पहुंचाए गए । 1632 में महावत खान को दक्‍खन का वाइसराय बनाकर  शाहजहॉं ने बुरहानपुर से आगरा प्रस्‍थान किया ।

आधुनिक इतिहास :-16 वीं शताब्‍दी के मध्‍य से लेकर अठारहवीं शताब्‍दी तक बुरहानपुर सहित निमाड क्षेत्र औरंगजेब, बहादुर शाह, पेशवा, सिंधिया, होलकर, पवार और पिण्‍डारियों से प्रभावित रहा । बाद में 18वीं शताब्‍दी की शुरूआत में निमाड़ क्षेत्र का प्रबंधन ब्रिटिश के अधीन आ गया ।

             अंग्रेजो के विरूद्ध देशव्‍यापी 1857 के महान विप्‍लव से बुरहानपुर भी अछुता नहीं रहा । तात्‍या टोपे ने निमाड़ क्षेत्र से बाहर जाने के पूर्व खण्‍डवा, पिपलोद इत्‍यादि जगहों पर पुलिस थानों और शासकीय भवनों को आग के हवाले किया था ।

           स्‍वाधीनता आंदोलनों  से बुरहानपुर भी प्रभावित रहा ।

 
District Information
एक नज़र

पाठकों की पसंद
जिले के महत्वपूर्ण फोटो

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer