समाचार
|| मास्क न पहनने पर 26 लोगो से 32 सौ रूपये का जुर्माना || मंगलवार 9 जून को होगी अमानक धान की ऑफ लाइन नीलामी || धार्मिक प्रतिष्ठानों एवं पूजा-स्थलों पर बरतनी होगी सावधानियाँ || एक ही फोरम पर उपलब्ध होंगी रोजगार लेने और देने वालों की जानकारी रोजगार सेतु पोर्टल का लोकार्पण 10 जून को || दुग्ध उत्पादकों, किसानों को के.सी.सी. देने का अभियान प्रारंभ || मानसून सीजन में खतरनाक हो सकते हैं बिजली के झटके || प्रदेश में 2 लाख 57 हजार दावेदारों को उनकी काबिज भूमि के वन अधिकार पत्र वितरित || सीएमएचओ ने की श्यामपुर विकासखण्ड की समीक्षा || जिले में स्थापित क्वांरेटाईन सेंटरों में आयुष विभाग द्वारा पिलाया गया आरोग्य कषायम्-20 का काढ़ा || फसलों में कीट व्याधि एवं कृषकों को सलाह हेतु निगरानी दल गठित
आस-पास
मुरैना
...और खबरें
श्योपुर
भिण्ड
...और खबरें
जिला :: मुरैना
सांस्कृतिक
1/9/2012 8:42:54 AM

           मुरैना नगर में हिन्दू, जैन, सिक्ख, मुसलमान आदि धर्मावलम्बी रहते है बाहुल्य हिन्दुओं का है, इनकी जसंख्या 95 प्रतिशत है बिहारी जी का मंदिर , मारकण्डेश्वर मंदिर, रामजानकी मंदिर, तपस्वी बाबा की बगिया, महामाया का मंदिर, बडोखर की माता, बनखण्डी महादेव आदि हिन्दुओं के प्रमुचा देवस्थान है जैनियों का एक मंदिर , सिक्खों का एक मंदिर गुरूद्धारा, तथा मुसलमानों की एक मस्जिद है नगर में प्रेम एवं भाई चारे के साथ सभी वर्गो के लोग रहते है हिन्दू मुस्लिम दंगे कभी भी नहीं हुए हिन्दुओं के तीज त्यौहारों में मुसलमान सम्मिलित होते है और मुसलमानों के त्यौहार (ईद) आदि में हिन्दू सम्मिलित होते है हिन्दू- मुस्लिम के रहन सहन तथा बेश भूषा अपवादों को छोडकर कोई अन्तर नहीं है कभी कभार कोई बाह्य तत्व आकर यहां के शांत जीवन में साम्प्रदायिकता की लहर उत्पन्न करने का प्रयास करता है परन्तु यहां के मुसलमानों पर उसका कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ता है वे भारतीय है और भारतीय ही रहना चाहते है

मुरैना एक परिचय

           भारत वर्ष के ह्रदय प्रदेश का शीर्षस्थल मुरैना जिला मुकुट सदृश प्रतीत होता है यह जिला चम्बल संभाग की एक इकाई के रूप में 6 तहसीलों, 7 विकास खण्डों , 4 नगर पालिकाओं , 4 नगर पंचायतो में विभाजित है जिला मुख्यालय मुरैना शहर प्राचीन मयूरवन में स्थित है जो क्वारी एवं आसन नदियों के दोआत में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 3 एवं उत्तर मध्य रेल्वे लाइन पर स्थित है यह जिला ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से समृद्ध है यह जिला सास्कृति , सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान रखता है पूर्व मे यह जिला तॅवरघार के नाम से जाना जाता था मुरैना जिले की स्थापना सन 1923 में की गई थी

District Information
एक नज़र

पाठकों की पसंद
जिले के महत्वपूर्ण फोटो

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer